हमारी कहानी

डिसेबल्ड- वार वेटरन्स (इंडिया) (विकल युद्धवीर) अथवा डिवावे ( DIWAVE) को वर्ष 1978 में सोसायटी के रजिस्ट्रार के पास रजिस्टर्ड किया गया था, जो रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा मान्यताप्राप्त तीन संगठनों में से एक है। युद्ध में हुई विकलांगता/लड़ाई में हताहत होने वाले सैनिकों का यह गैर-राजनीतिक‍, प्रजातांत्रिक, धर्म निरपेक्ष एवं स्वैच्छिक संगठन है। डिवावे( DIWAVE) का गठन मूल रूप से युद्ध / लड़ाई में हताहत सशस्त्रबलों के कल्याण हेतु भारत सरकार द्वारा स्वीकृत देय हक दिलवाने के साथ-साथ उनके कल्याण हेतु उपाय सुझाने के उद्देश्य् से गठित किया गया था।

दूरदर्शिता और मिशन

उद्देश्य (AIM)

सशस्त्र बलों के ऐसे सभी सदस्य, जो युद्ध/लड़ाई में, विकलांग या विकल होने के कारण सेवा से बाहर हुए हों अथवा उन्हें सेवा में बरकरार रखा गया हो, उनकी और उनके आश्रितों की मदद करने के उद्देश्य से विकल युद्धवीर/डिसेबल्‍ड वार वेटरन्‍स (इंडिया) का गठन किया गया है।

कुछ लक्ष्य (SOME OBJECTIVE)

  • भारत सरकार / राज्य सरकारों और अन्य सरकारी एवं गैर-सरकारी एजेंसियों / संगठनों के साथ तालमेल रखते हुए युद्ध में विकलांग/विकल सैनिकों की पेंशन एवं संबद्ध मामलों में सहयोग करना और मार्गदर्शन देना।
  • सेवा-उपरांत जीवन में पुनर्वास हेतु सहायता एवं मार्गदर्शन, ताकि समाज में उन्हें उपयोगी स्थान पुन: मिल सके।
  • विकलांग/विकल सैनिकों अथवा मृत सैनिकों के आश्रितों को अच्छी शिक्षा आदि उपलब्ध करवाने में सहायता करना।
  • अधिकारियों के साथ तालमेल से युद्ध में विकलांग/विकल सैनिकों एवं उनके परिजनों को समुचित चिकित्सा देखभाल के साथ-साथ जरूरी होने पर शारीरिक पुनर्वास हेतु मदद सुनिश्चित करना।
  • सैनिकों की सेवाकाल में भूमिका और सेवा के बाद के जीवन के बारे में वार डिवावे द्वारा सेमिनार, समय-समय पर आवधिक सम्मेलन, प्रदर्शनी आदि का आयोजन कर जनता को शिक्षित करने का प्रयास करना।
  • आने वाले दिनों में डिवावे की राज्यो इकाइयों/निकायों का देशभर में गठन करते हुए उपरोक्त लक्ष्यों और उद्देश्यों को बढ़ावा देना।
  • डिवावे के उद्देश्यों एवं लक्ष्यों को आगे बढ़ाने हेतु विधिक साधनों से नकद या वस्तु के माध्यम से अंशदान(सबस्क्रिप्शन), दान आदि लेना।
  • ऐसे विधिक कार्य करना, जो डिवावे के उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए अनुकूल हो।

पदाधिकारी

कार्यालय बियर (OFFICE BEARERS​)

सदस्यता विवरण (MEMBERSHIP DETAIL)

सदस्यता शुल्क, एक बार का अंशदान(सबस्क्रिप्शन) तथा वार्षिक चंदे संबंधी विवरण की निम्न सिफारिश(Recommend) की जाती है।

  • प्राथमिक सदस्यता के लिए कोई अंशदान(सबस्क्रिप्शन) देय नहीं है।
  • सक्रिय सदस्य् से सदस्यता शुल्क एवं एक बार लिया जाने वाला अंशदान(सबस्क्रिप्शन) इस प्रकार है:
    • अधिकारियों/आश्रितों के लिए प्रवेश शुल्क रू. 200/+एक बार का सदस्यता शुल्क रू.500/
    • जेसीओ/आश्रितों के लिए प्रवेश शुल्क रू. 100 /+एक बार का अंशदान(सबस्क्रिप्शन) रू. 200/
    • एनसीओ / आश्रितों के लिए प्रवेश शुल्क रू. 50 / +एक बार का अंशदान(सबस्क्रिप्शन) रू. 100 /
    • अन्य. रैंक / आश्रितों के लिए प्रवेश शुल्क रू. 30 / + एक बार का अंशदान(सबस्क्रिप्शन) रू. 70 /
  • सीधे डिपॉजिट के लिए आईसीआईसीआई बैंक, डीएलएफ कुतुब प्लाजा शाखा, डीएलएफ सिटी, फेज 1, गुड़गांव 122002 (खाता सं- 629101103338) का उपयोग करें।
Close Menu